महाशिवरात्रि पर इन मंत्रों सें करें शिवजी को प्रसन्न 

शिवजी (Lord Shiva) को भोलेनाथ यूं ही नहीं कहा जाता. वह शिवलिंग पर चढ़ाए गए केवल एक लोटा जल या अक्षत के 4 दाने से ही प्रसन्न हो जाते हैं. शिवलिंग पर जल अर्पित करने और बेल पत्र चढ़ाने के बाद अगर आप पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके इन मंत्रों का जाप (Mantra Jaap) करें तो मनोवांछित फल की प्राप्ति हो सकती है, क्योंकि भगवान शिव को ये मंत्र बेहद प्रिय हैं. वे मंत्र हैं:

– ओम नमः शिवाय

– ओम नमो वासुदेवाय नमः

– ओम राहुवे नमः

महाशिवरात्रि पर विभिन्न समस्याओं के लिए इन मंत्रों का जाप  

इन मंत्रों के अलावा अलग-अलग समस्याओं के लिए आप महाशिवरात्रि के दिन अलग-अलग मंत्रों का भी जाप कर सकते हैं-

आयु वृद्धि के लिए- शं हृीं शं !!

विवाह में आ रही बाधा दूर करने के लिए- ओम ऐं हृी शिव गौरी मव हृीं ऐं ओम !

शत्रु पर विजय प्राप्त करने के लिए-  ओम मं शिव स्वरुपाय फट !

किसी पुरानी बीमारी को दूर करने के लिए- ॐ हौं सदाशिवाय रोग मुक्ताय हौं फट !

शनि की साढ़े साती के लिए शिवजी का ये मंत्र-  हृीं ओम नमः शिवाय हृीं !

किसी केस मुकदमे से छुटकारा पाने के लिए- ओम क्रीं नमः शिवाय क्रीं  !

परीक्षा में सफलता पाने के लिए- ओम ऐं गे ऐं ओम !

बिगड़ी संतान को फिर से सही मार्ग पर लाने के लिए- ओम गं ऐं ओम नमः शिवाय ओम !

विदेश यात्रा पर जाने वाले इच्छुक लोगों के लिए- ओम अनंग वल्लभाये विदेश गमनाय कार्यसिद्धयर्थे नमः!

सुख सम्पदा पाने के लिए यह मंत्र- ओम हृौं शिवाय शिवपराय फट!

रोजगार या नौकरी प्राप्त करने के लिए-  ओम शं हृीं शं हृीं शं हृीं शं हृीं ओम

प्रेम प्राप्ति के लिए- ओम हृीं ग्लौं अमुकं सम्मोहय सम्मोहय फट!

महामृत्युंज्य मंत्र (Mahamrityunjaya Mantra)

ओम त्रयंम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टिवर्धनं

उर्वारुकमिव बन्धनान मृत्योर्मुक्षीय मामृतात