उत्पन्ना एकादशी शुभ मुहूर्त महत्व, व्रत विधि और व्रत कथा 

हिन्दू धर्म में एकादशियों का बड़ा महत्व है, यह दिन मात्र एक अवसर होने की बजाय एक पर्व का रूप भी धारण कर लेता है। इस दिन हिन्दू धर्म के लोग भगवान की पूरे विधि अनुसार पूजा करते हैं, उनके नाम का व्रत करते हैं तथा एकादशी के अनुकूल वरदान पाते हैं, ऐसी मान्यता प्रचलित है। हिन्दू धर्म में कुल 24 एकादशियां मानी गई हैं, जो यदि मलमास हो तो बढ़कर 26 हो जाती हैं। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार प्रत्येक माह दो एकादशियाँ आती हैं, एक शुक्ल पक्ष की और दूसरी कृष्ण पक्ष की।

मार्गशीर्ष माह के कृष्णपक्ष की ग्यारस यानी ग्यारहवीं तिथि को भगवान विष्णु से एकादशी तिथि प्रकट यानी उत्पन्न हुई थीं। देवी एकादशी भगवान विष्णु की एक शक्ति का रूप है, मान्यता है कि उन्होंने इसी दिन उत्पन्न होकर राक्षस मुर का वध किया था। इसलिए इस एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के नाम से जाना जाता है । इसे उत्पत्तिका, उत्पन्ना, प्राकट्य और वैतरणी एकादशी भी कहा जाता है। शास्त्रों के अनुसार उत्पन्ना एकादशी का व्रत करने से अश्वमेघ यज्ञ करने के बराबर पुण्य मिलता है। हेमंत ऋतु में मार्गशीर्ष कृष्ण एकादशी से इस व्रत को प्रारंभ किया जाता है। पद्म पुराण के अनुसार उत्पन्ना एकादशी व्रत में भगवान विष्णु समेत देवी एकादशी की पूजा का भी विधान है।

उत्पन्ना एकादशी शुभ मुहूर्त एकादशी 30 नवबंर 2021

पारण मुहूर्त की अवधि 1 घंटा 28 मिनट 

साल 2021 की उत्पन्ना एकादशी का पारण मुहूर्त 1 दिसंबर को बुधवार की सुबह 7ः34 से 9ः02 बजे तक रहेगा। सुबह का यह समय व्रत खोलने के बहुत शुभ है। 

इस वर्ष की एकादशी की तिथि का समय 30 नवंबर को सुबह 4ः13 बजे आरंभ हो जाएगा और अगले दिन बुधवार की रात 2ः13 बजे समाप्त हो जाएगा। 

Next Ekadashi  Mokshada Ekadashi 2021: जानें मोक्षदा एकादशी महत्व कथा व्रत विधि एवं पूजा विधि

उत्पन्ना एकादशी का महत्व 

उत्पन्ना एकादशी का महत्व भविष्योत्तर पुराण जैसे कई हिंदू ग्रंथों में वर्णित है, जो कि बातचीत के रूप में मौजूद है जहां राजा युधिष्ठिर भगवान कृष्ण के साथ वार्तालाप में शामिल हैं। त्यौहार का महत्व शुभकामनाएं जैसे ‘संक्रांति’ जैसा है जहां भक्त दान के कृत्यों का पालन करके काफी पुण्य अर्जित करते हैं। इस दिन उपवास रखने से भगवान ब्रह्मा, महेश और विष्णु का आशीर्वाद मिलता है। इसलिए, यदि उपवास अत्यधिक समर्पण के साथ मनाया जाता है, तो भक्तों को दिव्य आशीर्वाद का वरदान मिलता है।

उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा 

यह सभी जानते हैं कि एकादशी को व्रत करके भगवान का पूजन किया जाता है, लेकिन यह बहुत कम लोग जानते हैं कि उत्पन्ना एकादशी से ही व्रत करने की प्रथा आरंभ हुई थी। इस एकादशी से जुड़ी कथा बेहद रोचक है, कहते हैं कि सतयुग में इसी एकादशी तिथि को भगवान विष्णु के शरीर से एक देवी का जन्म हुआ था। इस देवी ने भगवान विष्णु के प्राण बचाए, जिससे प्रसन्न होकर विष्णु ने इन्हें देवी एकादशी नाम दिया।

उत्पन्ना देवी के जन्म के पीछे एक पौराणिक कथा इस प्रकार हैं- मुर नामक एक असुर हुआ करता था, जिससे युद्घ करते हुए भगवान विष्णु काफी थक गए थे, और मौका पाकर बद्रीकाश्रम में गुफा में जाकर विश्राम करने लगे। परन्तु मुर असुर ने उनका पीछा किया और उनके पीछे-पीछे चलता हुआ बद्रीकाश्रम पहुंच गया। जब वह पहुंचा तो उसने देखा कि श्रीहरि विश्राम कर रहे हैं, उन्हें निद्रा में लीन देख उसने उनको मारना चाहा

तभी विष्णु भगवान के शरीर से एक देवी का जन्म हुआ और इस देवी ने मुर का वध कर दिया। देवी के कार्य से प्रसन्न होकर विष्णु भगवान ने कहा कि देवी तुम मार्गशीर्ष मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी को उत्पन्न हुई हो अतः तुम्हारा नाम “उत्पन्ना एकादशी” होगा। तथा भगवान विष्णु ने उन्हें वरदान दिया और कहा कि आज से प्रत्येक एकादशी को मेरे साथ तुम्हारी भी पूजा होगी। जो भी भक्त एकादशी के दिन मेरे साथ तुम्हारा भी पूजन करेगा और व्रत करेगा, उसकी हर मनोकामना पूर्ण होगी।

तभी से यह मान्यता बनी हुई है कि प्रत्येक एकादशी पर व्रत किया जाए और साथ ही भगवान की पूजा भी की जाए। किंतु अधिकतर लोग एकादशी पर केवल भगवान विष्णु का पूजन करते हैं, परंतु आप अधिक फल पाना चाहते हैं तो श्रीविष्णु के साथ एकादशी देवी की भी आराधना करें। यह एकादशी देवी विष्णु जी की माया से प्रकट हुई थी, इसलिए इनका महत्व पूजा में उतना ही है जितना भगवान विष्णु का है। शास्त्रों के अनुसार, जो व्यक्ति श्रद्घा भाव से उत्पन्ना एकादशी का व्रत रखता है वह मोहमाया के प्रभाव से मुक्त हो जाता है, छल-कपट की भावना उसमें कम हो जाती है और अपने पुण्य के प्रभाव से व्यक्ति विष्णु लोक में स्थान पाने योग्य बन जाता है।

Must Read Pooja Tips: पूजा से जुड़ी हुईं अति महत्वपूर्ण बातें

उत्पन्ना एकादशी व्रत विधि एवं नियम

यदि आप इस एकादशी का व्रत करने जा रहे हैं तो हेमंत ऋतु में मार्गशीर्ष कृष्ण एकादशी से इस व्रत को प्रारंभ किया जाता है। दशमी को सायंकाल भोजन के बाद अच्छी प्रकार से दातुन करें ताकि अन्न का अंश मुँह में रह न जाए। रात्रि को भोजन कदापि न करें, न अधिक बोलें। एकादशी के दिन प्रात: 4 बजे उठकर सबसे पहले व्रत का संकल्प करें। इसके पश्चात शौच आदि से निवृत्त होकर शुद्ध जल से स्नान करें। पूरे दिन निराहार रहकर संध्या पूजन के बाद फलाहार लें, संभव हो तो श्रीहरि के किसी भी मंत्र का जाप करते रहें। परनिंदा, छल-कपट, लालच, द्वेष की भावना मन में न लाएं। रात्रि में सोना या प्रसंग नहीं करना चाहिए। सारी रात भजन-कीर्तन आदि करना चाहिए। जो कुछ पहले जाने-अनजाने में पाप हो गए हों, उनकी क्षमा माँगनी चाहिए। द्वादशी के दिन ब्राह्मणों को भोजन करवाने के पश्चात स्वयं भोजन करें।

भगवान जगदीश जी की आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे।

भक्त जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥ ॐ जय जगदीश…

जो ध्यावे फल पावे, दुःख बिनसे मन का।

सुख सम्पति घर आवे, कष्ट मिटे तन का॥ ॐ जय जगदीश…

मात पिता तुम मेरे, शरण गहूं मैं किसकी।

तुम बिन और न दूजा, आस करूं मैं जिसकी॥ ॐ जय जगदीश…

तुम पूरण परमात्मा, तुम अंतरयामी।

पारब्रह्म परमेश्वर, तुम सब के स्वामी॥ ॐ जय जगदीश…

तुम करुणा के सागर, तुम पालनकर्ता।

मैं सेवक तुम स्वामी, कृपा करो भर्ता॥ ॐ जय जगदीश…

तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति।

किस विधि मिलूं दयामय, तुमको मैं कुमति॥ ॐ जय जगदीश…

दीनबंधु दुखहर्ता, तुम रक्षक मेरे।

करुणा हाथ बढ़ाओ, द्वार पड़ा तेरे॥ ॐ जय जगदीश…

विषय विकार मिटाओ, पाप हरो देवा।

श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ, संतन की सेवा॥ ॐ जय जगदीश…

जय जय श्रीहरि”

Must Read Lord Vishnu Chalisa : पढ़ें श्री विष्णु जी की प्रिय चालीसा, प्रसन्न होकर देंगे आशीष

डिसक्लेमर

‘इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। ‘